तबीयत

कुछ चीजें वाकई हैरान कर देने वाली होती हैं। यह चीज़ें वक्त- बेवक्त हमारे सामने आ जाती हैं और हमें लाचार बना जाती हैं। ऐसी ही एक चीज़ है- बीमारी! बीमारी के आगे इंसान कितना छोटा है। इसके आगे किसी का अधिकार नहीं चलता।

एक बार जब मैं बीमार पड़ी, तब मुझे यह ख्याल आया-

“ये तबियत की खराबियत
भी गज़ब दिखाती है,
कोई मिलने आऐ न आऐ,
खुद से मिलवा जाती है।”

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s